ओ रे खेवैीया!

ओ रे खेवैीया! ठहर जा ज़रा,
थोड़ी भोर होने दे, थोड़ी जाग होने दे,
इस अंधेरे में कहीं डगमगा ना जाए,
इस धुन्द में कहीं खो ना जाएे I

                                    यह वास्तव है, पर सत्य नही,
                                    यह अनन्त है, और अतर्थ सही,
                                    मैं वही हूँ जो तेरे साथ था आजतक,
                                    मैं वही हूँ, जीके कारण तू है आजतक

ओ रे खेवैीया! डर सा गया हूँ मैं,
पिछले हर मुश्किल से सहम सा गया हूँ मैं,
चलना तू इस बार साथ मेरे,
छोर ना देना तू, यह हाथ मेरा I

                                    तेरी मुश्किल का हर नाम मैं हूँ,
                                    तेरी प्रश्नो का हर सवाल मैं हूँ,
                                    फिर क्यूँ डरा है, यह बता मुझे?
                                    फिर क्यूँ यह प्रशण है, समझा मुझे?

ओ रे खेवैीया! ठहर जा ज़रा,
सहम सा गया हूँ मैं,डर सा गया हूँ मैं,
ओ रे खेवैीया! तब यह बता मुझे,
क्यूँ ये मन है फिर परेशान मेरा?

                                    तुझे ग्यात है हर सभी अक्षर का,
                                    चाहूं और और सभी दिशा का,
                                    तुझे ग्यात है, सभी पलटते पहलू का,
                                     इसलिए परेशान है मन तेरा II

-योशी वत्स

Advertisements

27 thoughts on “ओ रे खेवैीया!

  1. “यूँ ही बे-सबब न फिरा करो, कोई शाम घर में भी रहा करो 
    वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है, उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो!!”

    Liked by 1 person

  2. मैंने तो गुनगुनाते पढ़ी…ओssरी खेवैया…वाह. कुछ रॉक अंदाज में बीच के कुछ अल्फाज़. ये तो रही तारीफ, पर मैं मीन-मेख वाला आलोचक हूँ.

    १० में ८ नंबर. दो नंबर कुछ छिटपुट फोंट और ग्रामर की वजह से गये. छोर है या छोड़? और ‘ज्ञ’ शायद बेहतर दिखे ‘ग्य’ से.

    Liked by 1 person

    • Pehli baar Kisi ne sachi baat kahhi hai..iske liye 10/10 😜
      Tarif ke liye shukriya.. 😊
      Ab defense mechanism…kavita Mein grammar nai dekte..kavi zone baaton ko apni jaisa dhal lets hai…spelling mistake script editor Ki hai..english to Hindi type karna todha mushkil Ho jata hai…koi achii Hindi scrpit editor suggest kijiye?

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s